banner

Perform Your Puja As

Per Vedic Rituals

We analyze birth charts to identify these kundali defects and conduct specific pujas to reduce these negative effects and pave the way for prosperity, success, and well-being in your life.

Book Pandit for Personalized Puja Experience

Filter by Category

Filter by Gods

Most Popular Puja

search
गुरु चाण्डाल योग

गुरु चाण्डाल (दोष) पूजा

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब जातक की कुण्डली में राहु और बृहस्पति ग्रह एक साथ विद्यमान हों...

18500
शिवमहिम्न स्तोत्र

शिवमहिम्न स्तोत्र

चन्द्रमौलीश्वर भूतभावन भूतेश भगवान् रुद्र के महिमा का वर्णन है।

4100
कनकधारा

कनकधारा स्तोत्र पाठ

शब्दार्थ ही शब्द के भाव को द्योतित अथवा प्रकाशित कर रहा है।

4500
गङ्गालहरी

गङ्गालहरी स्तोत्रपाठ

 गङ्गालहरी पण्डितराज जगन्नाथ का एक स्तुत्यात्मक ग्रंथ है।

5100
अपामार्जन

अपामार्जन स्तोत्र

यह स्तोत्र भगवान् विष्णु की उपासना के लिए समर्पित है।

4100
व्यपोहन स्तोत्र पाठ

व्यपोहन स्तोत्र पाठ

भगवान् शिव का स्तवन् (स्तोत्र) परम कल्याणकारी तथा ज्ञात अज्ञात समस्त पापों से मुक्त करता ह...

11000
अभिलाष्टक

अभिलाष्टक स्तोत्र पाठ

 मुनि विश्वानर कृत सम्पूर्ण मनोकामनाओं को तथा विशेषतः पुत्र प्राप्ति की अभिलाषा को पूर्ण

4100
सूर्य ग्रह

सूर्य ग्रह

 भारतीय ऋषियों ने अपनी साधना, परिश्रम एवं दिव्य ज्ञान के द्वारा ग्रहों

8100
केतु ग्रह

केतु ग्रह

भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार केतु छायाग्रह है।

11000
राहु ग्रह

राहु ग्रह

भारतीय ज्योतिष के अनुसार राहु और केतु भारतीय सूर्य एवं चंद्रमा

11000
शनि ग्रह

शनि ग्रह

शनि की महिमा का उल्लेख करते हुए पुराणों में कई कथाएं मिलती हैं।

15000
शुक्र ग्रह

शुक्र ग्रह

 नवग्रहों में बृहस्पति के साथ शुक्र ग्रह का भी विशेष प्रभाव रहता है।

10000
बृहस्पति ग्रह

बृहस्पति ग्रह

देवगुरु बृहस्पति का नवग्रहों में प्रमुख स्थान है ।

10000
बुध ग्रह

बुध ग्रह

संसार के समस्त चराचर प्राणियों पर नवग्रहों का प्रभाव रहना विदित है।

8100
चंद्रमा ग्रह

चन्द्र ग्रह

चन्द्रमा का नवग्रहों में द्वितीय स्थान है। इनको बुद्धि, ज्ञान तथा मन का कारक माना जाता है...

8100
मंगल ग्रह

मंगल ग्रह

पुराणों में मंगल ग्रह के पूजन की बहुत महिमा बताई गई है।

8100
समावर्तन

समावर्तन संस्कार

 यज्ञोपवीत संस्कार के बाद  वेदारम्भ संस्कार तथा जब शिक्षा पूर्ण हो जाती थी|

7100
श्रीदत्तात्रेयसहस्रनाम स्तोत्र

श्रीदत्तात्रेयसहस्रनाम स्तोत्र

सनातन वैदिक उपासना एवं पूजा पद्धति में भगवान दत्तात्रेय का विशिष्ट स्थान है। भगवान दत्तात्...

7100
 +91 |

By clicking on Login, I accept the Terms & Conditions and Privacy Policy

Recovery Account