दुर्लभपद की प्राप्ति एवं व्यवसाय की उन्नति होती है, स्कन्दकृत शिव स्तुति से।

दुर्लभपद की प्राप्ति एवं व्यवसाय की उन्नति होती है, स्कन्दकृत शिव स्तुति से।

।। शिव स्तुति ।। 

श्री स्कन्द पुराण के कुमारिका खण्ड में भगवान् शिव की यह मनोहर स्तुति प्राप्त होती है । इस स्तुति में कुल दस (10) श्लोक हैं जिनमें भगवान् शिव के अनेकों स्वरूपों का ध्यान करते हुए प्रणाम किया गया है । 

स्तुति पाठ के लाभ :

  • आरोग्य की प्राप्ति होती है ।
  • दरिद्रता का नाश होता है ।
  • प्रियजनों से वियोग नहीं होता ।
  • संसार में दुर्लभ वस्तुओं का भोग करते हैं और शिव सायुज्य को प्राप्त करते हैं ।  

                       स्कन्द उवाच

नमः शिवायास्तु निरामयाय नमः शिवायास्तु मनोमयाय । 
नमः शिवायास्तु सुरार्चिताय तुभ्यं सदा भक्तकृपापराय ॥१॥ 

स्कन्दजी बोले- जो सब प्रकार के रोग-शोक से रहित हैं, उन कल्याणस्वरूप भगवान शिव को नमस्कार है। जो सब के भीतर मनरूप से निवास करते हैं, उन भगवान् शिव को नमस्कार है। सम्पूर्ण देवताओं से पूजित भगवान् शंकर को नमस्कार है। भक्तजनों पर निरन्तर कृपा करने वाले आप भगवान् महेश्वर को नमस्कार है ।

नमो भवायास्तु भवोद्भवाय नमोऽस्तु ते ध्वस्तमनोभवाय । 
नमोऽस्तु ते गूढमहाव्रताय नमोऽस्तु  मायागहनाश्रयाय ॥२॥

सबकी उत्पत्ति के कारण भगवान् भव को नमस्कार है । भगवन् ! आप भव के उद्भव (संसारके स्रष्टा) हैं, आपको नमस्कार है । कामदेव का विध्वंस करने वाले आपको नमस्कार है । आप गूढ़भाव से महान् व्रत का पालन करने वाले हैं, आपको नमस्कार है। आप मायारूपी गहन वन के आश्रय हैं अथवा सबको आश्रय देने वाला आपका स्वरूप योगमायासमावृत होने के कारण दुर्बोध है, आपको नमस्कार है । 

नमोऽस्तु शर्वाय नमः शिवाय नमोऽस्तु सिद्धाय पुरातनाय । 
नमोऽस्तु कालाय नमः कलाय नमोऽस्तु ते कालकलातिगाय ॥३॥

प्रलयकालमें जगत् का संहार करनेवाले 'शर्व' नामधारी आपको नमस्कार है। शिवरूप आपको नमस्कार है। आप पुरातन सिद्धरूप हैं, आपको नमस्कार है। कालरूप आपको नमस्कार है। आप सबकी कलना (गणना) करने वाले होने के कारण 'कल' नाम से प्रसिद्ध हैं, आपको नमस्कार है। आप काल की कला का अतिक्रमण करके उससे बहुत दूर रहते हैं, आपको नमस्कार है । 

नमो निसर्गात्मकभूतिकाय नमोऽस्त्वमेयोक्षमहार्धिकाय ।
नमः शरण्याय नमोऽगुणाय नमोऽस्तु नमो ते भीमगुणानुगाय ॥४॥  

आप स्वाभाविक ऐश्वर्य से सम्पन्न हैं, आपको नमस्कार है। आप अप्रमेय महिमा वाले वृषभ तथा महासमृद्धि से सम्पन्न हैं, आपको नमस्कार है। आप अप्रमेय महिमा वाले वृषभ तथा महासमृद्धि से संपन्न हैं, आपको नमस्कार है, आप सबको शरण देने वाले हैं,  आप ही निर्गुण ब्रह्म हैं, आपको नमस्कार है । आपके अनुगामी सेवक भयानक गुणसम्पन्न हैं, आपको नमस्कार है ।

नमोऽस्तु नानाभुवनाधिकर्ते नमोऽस्तु भक्ताभिमतप्रदात्रे ।
नमोऽस्तु कर्मप्रसवाय धात्रे नमः सदा ते भगवन् सुकत्रे ॥५॥ 

नाना भुवनों पर अधिकार रखने वाले आपको नमस्कार है। भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करने वाले आपको नमस्कार है । भगवन् ! आप ही कर्मों का फल देने वाले हैं, आपको नमस्कार है । आप ही सब का धारण-पोषण करने वाले धाता तथा उत्तम कर्ता हैं, आपको सर्वदा नमस्कार है ।

अनन्तरूपाय सदैव तुभ्यमसह्यकोपाय सदैव तुभ्यम् ।
अमेयमानाय नमोऽस्तु तुभ्यं वृषेन्द्रयानाय नमोऽस्तु तुभ्यम् ॥६॥

आपके अनन्तरूप हैं, आपका कोप सबके लिये असह्य है, आपको सदैव नमस्कार है। आपके स्वरूप का कोई माप नहीं हो सकता, आपको नमस्कार है। वृषभेन्द्र को अपना वाहन बनाने वाले आप भगवान् महेश्वर को नमस्कार है ।

नमः प्रसिद्धाय महौषधाय नमोऽस्तु ते व्याधिगणापहाय । 
चराचरायाथ विचारदाय कुमारनाथाय नमः शिवाय ॥७॥

आप सुप्रसिद्ध महौषधरूप हैं, आपको नमस्कार है। समस्त व्याधियों का विनाश करने वाले आपको नमस्कार है। आप चराचरस्वरूप, सबको विचार तत्त्वनिर्णयात्मिका शक्ति देने वाले, कुमारनाथ के नाम से प्रसिद्ध तथा परम कल्याणस्वरूप हैं, आपको नमस्कार है ।

ममेश भूतेश महेश्वरोऽसि कामेश वागीश बलेश धीश । 
क्रोधेश मोहेश परापरेश नमोऽस्तु मोक्षेश गुहाशयेश ॥८॥

प्रभो ! आप मेरे स्वामी हैं, सम्पूर्ण भूतों के ईश्वर एवं महेश्वर हैं। आप ही समस्त भोगों के अधिपति हैं। वाणी, बल और बुद्धि के अधिपति भी आप ही हैं । आप ही क्रोध और मोह पर शासन करने वाले हैं । पर और अपर (कारण और कार्य)-के स्वामी भी आप ही हैं। सबकी हृदयगुहा में निवास करने वाले परमेश्वर तथा मुक्ति के अधीश्वर भी आप ही हैं, आपको नमस्कार है । 

                     शिव उवाच

ये च सायं तथा प्रातस्त्वत्कृतेन स्तवेन माम् । 
स्तोष्यन्ति परया भक्त्या शृणु तेषां च यत्फलम् ॥९॥

न व्याधिर्न च दारिद्र्यं न चैवेष्टवियोजनम् ।
भुक्त्वा भोगान् दुर्लभांश्च मम यास्यन्ति सद्म ते ॥१०॥

शिवजी ने कहा- जो लोग सायंकाल और प्रातःकाल पूर्ण भक्तिपूर्वक तुम्हारे द्वारा की हुई इस स्तुति से मेरा स्तवन करेंगे, उनको जो फल प्राप्त होगा, उसका वर्णन करता हूँ, सुनो-उन्हें कोई रोग नहीं होगा, दरिद्रता भी नहीं होगी तथा प्रियजनों से कभी वियोग भी न होगा । वे इस संसार में दुर्लभ भोगों का उपभोग करके मेरे परमधाम को प्राप्त करेंगे । 

॥ इस प्रकार श्रीस्कन्दमहापुराणके कुमारिकाखण्डमें शिवस्तुति सम्पूर्ण हुई ॥

वैदिक पद्धति से विशिष्ट पूजा-पाठ, यज्ञानुष्ठान, षोडश संस्कार, वैदिकसूक्ति पाठ, नवग्रह जप आदि के लिए हमारी साइट vaikunth.co पर जाएं तथा अभी बुक करें ।

Vaikunth Blogs

विकट विपत्ति तथा मृत्यु के समतुल्य कष्ट से मुक्ति हेतु करें महाकाल स्तुति
विकट विपत्ति तथा मृत्यु के समतुल्य कष्ट से मुक्ति हेतु करें महाकाल स्तुति

।। महाकाल स्तुति स्तोत्र ।।  भगवान् शिव के अनेकों नाम हैं । भक्त भिन्न-भिन्न नामों से इनका गुणगान...

उत्तम वर, विद्या, यश की प्राप्ति तथा धन धान्य की वृद्धि के लिए विश्वनाथ मङ्गल स्तोत्र
उत्तम वर, विद्या, यश की प्राप्ति तथा धन धान्य की वृद्धि के लिए विश्वनाथ मङ्गल स्तोत्र

।। श्री विश्वनाथमङ्गलस्तोत्रम् ।। काशीपीठाधीश्वर शंकराचार्य श्रीस्वामी महेश्वरानन्दसरस्वती जी द्व...

बाबा विश्वनाथ की कृपा प्राप्ति कराने वाला श्री काशी विश्वेश्वर स्तोत्र
बाबा विश्वनाथ की कृपा प्राप्ति कराने वाला श्री काशी विश्वेश्वर स्तोत्र

।। श्री काशी विश्वेश्वरादि स्तोत्रम् ।।  यह स्तोत्र श्लोकों का संग्रहात्मक स्तोत्र है । इस स्तोत्...

करें द्वादशज्योतिर्लिङ्ग स्तोत्र का पाठ और प्राप्त करें द्वादश ज्योतिर्लिंगों के दर्शन का महान फल
करें द्वादशज्योतिर्लिङ्ग स्तोत्र का पाठ और प्राप्त करें द्वादश ज्योतिर्लिंगों के दर्शन का महान फल

श्रीमत् शंकराचार्यजी द्वारा विरचित इस स्तोत्र में कुल तेरह श्लोक हैं जिनमें द्वादश श्लोकों में भगवान...

करें सदैव सर्वविध रक्षा मृतसञ्जीवनी कवच के द्वारा
करें सदैव सर्वविध रक्षा मृतसञ्जीवनी कवच के द्वारा

।। मृतसञ्जीवनकवचम् ।। महर्षि वशिष्ठ विरचित इस स्तोत्र में उन्नतीस (29) श्लोक हैं जो भक्त इस लोक औ...

जन्म-जन्मान्तर तथा ज्ञाता-ज्ञात पापों की निवृत्ति तथा कैंकर्यभाव की प्राप्ति हेतु करें शिवापराध क्षमापन स्तोत्र का पाठ
जन्म-जन्मान्तर तथा ज्ञाता-ज्ञात पापों की निवृत्ति तथा कैंकर्यभाव की प्राप्ति हेतु करें शिवापराध क्षमापन स्तोत्र का पाठ

श्रीमत् शंकराचार्यजी द्वारा विरचित यह स्तोत्र है । इस स्तोत्र में साधक भगवान् शिव से अपने अपराध के ल...

 +91 |

By clicking on Login, I accept the Terms & Conditions and Privacy Policy

Recovery Account