प्रचुर विद्या-धन, सौख्य, कीर्ति की प्राप्ति के लिए करें विश्वनाथाष्टकम् का पाठ

प्रचुर विद्या-धन, सौख्य, कीर्ति की प्राप्ति के लिए करें विश्वनाथाष्टकम् का पाठ

परमश्रद्धेय श्रीमहर्षिव्यास प्रणीत यह स्तोत्र है इस स्तोत्र में कुल दस श्लोक हैं । भगवान् शिव का ही अपर नाम विश्वनाथ है । शिव समस्त संसार के कष्टों को शीघ्रता से हरने वाले हैं । जो साधक नित्यप्रातः या सांय इस स्तोत्र का पाठ करता है उसे भगवान् शिव विद्या,धन,प्रचुर सौख्य, एवं अनन्त कीर्ति प्रदान करते हैं । 

गङ्गातरङ्गरमणीयजटाकलापं
               गौरीनिरन्तरविभूषितवामभागम् ।
नारायणप्रियमनङ्गमदापहारं
              वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥१॥

जिनकी जटाएँ गंगाजी की लहरों से सुन्दर प्रतीत होती हैं, जिनका वामभाग सदा पार्वतीजी से सुशोभित रहता है, जो नारायण के प्रिय और कामदेव के मद का नाश करने वाले हैं, उन काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

वाचामगोचरमनेकगुणस्वरूपं 
                वागीशविष्णुसुरसेवितपादपीठम् ।
वामेन विग्रहवरेण कलत्रवन्तं
                 वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥२॥

वाणी द्वारा जिनका वर्णन नहीं हो सकता, जिनके अनेक गुण और अनेक स्वरूप हैं, ब्रह्मा, विष्णु और अन्य देवता जिनकी चरण पादुका का सेवन करते हैं, जो अपने सुन्दर वामांग के द्वारा ही सपत्नीक हैं, उन काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

भूताधिपं भुजगभूषणभूषिताङ्गं
                 व्याघ्राजिनाम्बरधरं जटिलं त्रिनेत्रम् ।
पाशाङ्कुशाभयवरप्रदशूलपाणिं
                 वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥३॥

जो भूतों के अधिपति हैं, जिनका शरीर सर्परूपी गहनों से विभूषित है, जो बाघ की खाल का वस्त्र पहनते हैं, जिनके हाथों में पाश, अंकुश, अभय, वर और शूल हैं, उन जटाधारी त्रिनेत्र काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

शीतांशुशोभितकिरीटविराजमानं
                  भालेक्षणानलविशोषितपञ्चबाणम् ।
नागाधिपारचितभासुरकर्णपूरं 
                   वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥४॥

जो चन्द्रमा द्वारा प्रकाशित किरीट से शोभित हैं, जिन्होंने अपने भालस्थ नेत्र की अग्नि से कामदेव को दग्ध कर दिया, जिनके कानों में बड़े- बड़े साँपों के कुण्डल चमक रहे हैं, उन काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

पञ्चाननं दुरितमत्तमतङ्गजानां
                 नागान्तकं दनुजपुङ्गवपन्नगानाम् ।
दावानलं मरणशोकजराटवीनां 
                 वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥५॥

जो पापरूपी मत वाले हाथियों के मारने वाले सिंह हैं, दैत्यसमूह रूपी साँपों का नाश करने वाले गरुड हैं तथा जो मरण, शोक और बुढ़ापा रूपी भीषण वन को जलाने वाले दावानल हैं, ऐसे काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

तेजोमयं सगुणनिर्गुणमद्वितीय- मानन्दकन्दमपराजितमप्रमेयम् ।
नागात्मकं सकलनिष्कलमात्मरूपं वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥६॥

जो तेजपूर्ण, सगुण, निर्गुण, अद्वितीय, आनन्दकन्द, अपराजित और अतुलनीय हैं, जो अपने शरीर पर सर्पों को धारण करते हैं, जिनका रूप ह्रास-वृद्धि रहित है, ऐसे आत्मस्वरूप काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) । 

रागादिदोषरहितं स्वजनानुरागं 
                   वैराग्यशान्तिनिलयं गिरिजासहायम् ।
माधुर्यधैर्यसुभगं गरलाभिरामं
                   वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम्॥७॥

जो रागादि दोषों से रहित हैं, अपने भक्तों पर कृपा रखते हैं, वैराग्य और शान्ति के स्थान हैं, पार्वतीजी सदा जिनके साथ रहती हैं,जो धीरता और मधुर स्वभाव से सुन्दर जान पड़ते हैं तथा जो कण्ठ में गरल के चिह्न से सुशोभित हैं, उन काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

आशां विहाय परिहृत्य परस्य  निन्दां
                  पापे रतिं च सुनिवार्य मनः समाधौ ।
आदाय हृत्कमलमध्यगतं परेशं
                   वाराणसीपुरपतिं भज विश्वनाथम् ॥८॥

सब आशाओं को छोड़कर, दूसरों की निन्दा त्यागकर और पाप कर्म से अनुराग हटाकर, चित्त को समाधि में लगाकर, हृदय कमल में प्रकाशमान परमेश्वर काशीपति विश्वनाथ को भजो (भजन करो ) ।

वाराणसीपुरपतेः स्तवनं शिवस्य
                 व्याख्यातमष्टकमिदं पठते मनुष्यः । 
विद्यां श्रियं विपुलसौख्यमनन्तकीर्तिं 
                 सम्प्राप्य देहविलये लभते च मोक्षम् ॥ ९॥

जो मनुष्य काशीपति शिव के इन आठ श्लोकों के स्तवन का पाठ करता है, वह विद्या, धन, प्रचुर सौख्य और अनन्त कीर्ति प्राप्त कर देहावसान होने पर मोक्ष भी प्राप्त कर लेता है ॥

विश्वनाथाष्टकमिदं यः पठेच्छिवसन्निधौ ।
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते ॥ १० ॥

जो शिव के समीप इस 'विश्वनाथाष्टक' का पाठ करता है, वह शिवलोक प्राप्त करता और शिव के साथ आनन्दित होता है ॥

॥ इस प्रकार महर्षि व्यास प्रणीतं विश्वनाथाष्टकम् सम्पूर्ण हुआ ॥

वैदिक पद्धति से विशिष्ट पूजा-पाठ, यज्ञानुष्ठान, षोडश संस्कार, वैदिकसूक्ति पाठ, नवग्रह जप आदि के लिए हमारी साइट vaikunth.co पर जाएं तथा अभी बुक करें | 

Vaikunth Blogs

कैद में पड़े हुए स्वजनों की मुक्ति तथा दुर्लभ लक्ष्मी प्राप्ति के लिए
कैद में पड़े हुए स्वजनों की मुक्ति तथा दुर्लभ लक्ष्मी प्राप्ति के लिए

।। श्री मयूरेश्वर स्तोत्रम् ।। श्रीगणेशपुराण के अन्तर्गत् “मयूरेश्वर स्तोत्र” वर्णित है । इस स्तो...

अचल लक्ष्मी प्राप्ति हेतु करें इन्द्रकृत श्रीमहालक्ष्मी-अष्टक का पाठ
अचल लक्ष्मी प्राप्ति हेतु करें इन्द्रकृत श्रीमहालक्ष्मी-अष्टक का पाठ

देवराज इन्द्र द्वारा विरचित माता लक्ष्मी को समर्पित यह स्तोत्र है । श्री महालक्ष्म्यष्टकम् स्तोत्र म...

मुंडन मुहूर्त 2024 : जानें, मुंडन संस्कार के शुभ मुहूर्त तथा महत्त्व
मुंडन मुहूर्त 2024 : जानें, मुंडन संस्कार के शुभ मुहूर्त तथा महत्त्व

भारतीय संस्कृति को आज भी अपने श्रेष्ठतम आदर्शों के लिए जाना जाता है। धर्म शास्त्रों में हमारे आचार्य...

अपरिमित ऊर्जा प्राप्ति एवं धन-धान्य की वृद्धि हेतु करें इस स्तोत्र का पाठ
अपरिमित ऊर्जा प्राप्ति एवं धन-धान्य की वृद्धि हेतु करें इस स्तोत्र का पाठ

।। श्रीसूर्याष्टकम् स्तोत्र ।।  श्रीसूर्याष्टकम् स्तोत्र में आठ श्लोकों के द्वारा भगवान् सूर्य की...

सीमन्तोन्नयन संस्कार क्या है? जानें सही विधि एवं शुभ मुहूर्त
सीमन्तोन्नयन संस्कार क्या है? जानें सही विधि एवं शुभ मुहूर्त

भारतीय सामाजिक-सांस्कृतिक परिप्रेक्ष्य में प्रायः प्राचीन संस्कृति और संस्कारों का प्रभाव दृष्टिगोचर...

जानें, क्यों आवश्यक है नामकरण संस्कार
जानें, क्यों आवश्यक है नामकरण संस्कार

प्रायः हम देखते हैं की इस चर–अचर संसार में जितनी भी वस्तुएं हैं, प्रत्येक वस्तु की अपनी विशिष्ट पहचा...

 +91 |

By clicking on Login, I accept the Terms & Conditions and Privacy Policy

Recovery Account