दुःख, दरिद्रता तथा शत्रु बाधा को दूर करने के लिए करें परमेश्वर स्तोत्र का पाठ

दुःख, दरिद्रता तथा शत्रु बाधा को दूर करने के लिए करें परमेश्वर स्तोत्र का पाठ

इस स्तोत्र में कुल आठ श्लोक हैं । यह स्तोत्र भगवान् नारायण को समर्पित है, इस स्तोत्र का गुरुवार के दिन पाठ करने से पूर्वजन्म तथा वर्तमान में हुए अपराधों से मुक्ति प्राप्त होती है। और अनन्त दुख, दरिद्रता,शत्रुबाधा इत्यादि समाप्त हो जाती है ।

जगदीश सुधीश भवेश विभो परमेश परात्पर पूत पितः । 
प्रणतं पतितं हतबुद्धिबलं जनतारण तारय तापितकम् ।।१।।

हे जगदीश ! हे सुमतियों के स्वामी ! हे विश्वेश ! हे सर्वव्यापिन् ! हे परमेश्वर ! हे प्रकृति आदि से अतीत ! हे परमपावन ! हे पितः ! हे जीवों का निस्तार करने वाले ! इस शरणागत, पतित और बुद्धि-बल से हीन संसारसन्तप्त दास का उद्धार कीजिये ।

गुणहीनसुदीनमलीनमतिं त्वयि पातरि दातरि चापरतिम् । 
तमसा रजसावृतवृत्तिमिमं जनतारण तारय तापितकम् ।।२।।

जो सर्वथा गुणहीन, अत्यन्त दीन और मलिनमति है तथा अपने रक्षक और दाता आप से पराङ्मुख है, हे जीवों का निस्तार करने वाले ! इस संसार सन्तप्त उस तामस-राजस वृत्ति वाले दास का आप उद्धार कीजिये ।

मम जीवनमीनमिमं पतितं मरुघोरभुवीह सुवीहमहो ।  
करुणाब्धिचलोर्मिजलानयनं जनतारण तारय तापितकम् ।।३।।

हे जीवों का निस्तार करने वाले ! इस भयानक मरुभूमि में पड़कर नितान्त निश्चेष्ट हुए मेरे इस अति सन्तप्त जीवनरूप मीन का अपने करुणावारिधि की चंचल तरंगों का जल लाकर उद्धार कीजिये ।

भववारण कारण कर्मततौ भवसिन्धुजले शिव मग्नमतः।   
करुणाञ्च समर्य्य तरिं त्वरितं जनतारण तारय तापितकम् ।।४।।

अतः हे संसार की निवृत्ति करने वाले ! हे कर्मविस्तार के कारण स्वरुप ! हे कल्याणमय ! हे जीवों का निस्तार करने वाले ! संसार समुद्र के जल में डूबकर सन्तप्त होते हुए इस दास को अपनी करुणारूप नौका समर्पण करके यहाँ से तुरंत उद्धार कीजिये ।

अतिनाश्य जनुर्मम पुण्यरुचे दुरितौघभरै: परिपूर्णभुव: ।
सुजघन्यमगण्यमपुण्यरुचिं जनतारण तारय तापितकम् ।।५।।

हे पुण्यरुचे ! हे जीवोद्धारक ! जिसकी पापराशि के भार से पृथ्वी परिपूर्ण है, ऐसे मुझ अधम के जन्म को सदा के लिये मिटाकर मुझ अत्यन्त निन्दनीय, नगण्य, पाप में रुचि रखने वाले और संसार के दुःखों से दुःखित का उद्घार कीजिये ।

भवकारक नारकहारक हे भवतारक पातकदारक हे । 
हर शङ्कर किङ्करकर्मचयं जनतारण तारय तापितकम् ।।६।।

हे जगत् कर्ता ! हे नारकीय यन्त्रणाओं का अपहरण करने वाले ! हे संसार का उद्धार करने वाले ! हे पापराशि को विदीर्ण करने वाले ! हे शंकर! इस दास की कर्मराशि का हरण कीजिये और हे जीवों का निस्तार करने वाले ! इस संसार सन्तप्त जन का उद्धार कीजिये ।

तृषितश्चिरमस्मि सुधां हित मे-ऽच्युत चिन्मय देहि वदान्यवर ।
 अतिमोहवशेन विनष्टकृतं जनतारण तारय तापितकम् ।।७।।

हे अच्युत ! हे चिन्मय ! हे उदारचूडामणि ! हे कल्याणस्वरूप ! मैं अत्यन्त तृषित हूँ, मुझे ज्ञानरूप अमृत का पान कराइये । मैं अत्यन्त मोह के वशीभूत होकर नष्ट हो रहा हूँ । हे जीवों का उद्धार करने वाले ! मुझ संसार सन्तप्त को पार लगाइये ।

प्रणमामि नमामि नमामि भवं भवजन्मकृतिप्रणिषूदनकम् ।
गुणहीनमनन्तमितं शरणं जनतारण तारय तापितकम् ।।८।।

संसार में जन्मप्राप्ति के कारणभूत कर्मों का नाश करने वाले आपको मैं बारंबार प्रणाम और नमस्कार करता हूँ । हे जीवों का उद्धार करने वाले ! आप निर्गुण और अनन्त की शरण को प्राप्त हुए इस संसार सन्तप्त जन का उद्धार कीजिये ।

।। इस प्रकार “परमेश्वर स्तोत्र” सम्पूर्ण हुआ ।। 

वैदिक पद्धति से विशिष्ट पूजा-पाठ, यज्ञानुष्ठान, षोडश संस्कार, वैदिकसूक्ति पाठ, नवग्रह जप आदि के लिए हमारी साइट vaikunth.co पर जाएं तथा अभी बुक करें | 

Vaikunth Blogs

जातकर्म संस्कार क्यों किया जाता है? जानें महत्व एवं विधि
जातकर्म संस्कार क्यों किया जाता है? जानें महत्व एवं विधि

प्राचीन काल में समाज का प्रत्येक कार्य संस्कारों के पश्चात प्रारंभ होता था। जिस कारण भारतीय संस्कृति...

छठे माह में अन्नप्राशन संस्कार का महत्व
छठे माह में अन्नप्राशन संस्कार का महत्व

शिशु के जन्म के पश्चात् छ: महीने तक वह माता के दुग्ध पर आश्रित रहता है और छठे महीने में अन्नप्राशन स...

भगवान् अच्युत (श्रीकृष्ण) की कृपा प्राप्ति के करें अच्युताष्टकम् स्तोत्र पाठ
भगवान् अच्युत (श्रीकृष्ण) की कृपा प्राप्ति के करें अच्युताष्टकम् स्तोत्र पाठ

श्रीमत् आदिशंकराचार्य द्वारा विरचित यह स्तोत्र है। इस स्तोत्र में कुल नौ श्लोक हैं जिनमें से आठ श्लो...

जानें, क्यों आवश्यक है नामकरण संस्कार
जानें, क्यों आवश्यक है नामकरण संस्कार

प्रायः हम देखते हैं की इस चर–अचर संसार में जितनी भी वस्तुएं हैं, प्रत्येक वस्तु की अपनी विशिष्ट पहचा...

मां दुर्गाजी की भक्ति एवं शरणागति प्राप्ति हेतु करें भवान्यष्टकम् का पाठ
मां दुर्गाजी की भक्ति एवं शरणागति प्राप्ति हेतु करें भवान्यष्टकम् का पाठ

श्रीमत्शंकराचार्य जी द्वारा विरचित इस स्तोत्र में कुल आठ श्लोक हैं । भवान्यष्टकम् स्तोत्र में साधक  ...

इन्द्र के समतुल्य ऐश्वर्य एवं वैभव प्राप्ति हेतु करें इन्द्रकृत श्री रामस्तोत्र का पाठ
इन्द्र के समतुल्य ऐश्वर्य एवं वैभव प्राप्ति हेतु करें इन्द्रकृत श्री रामस्तोत्र का पाठ

यह स्तोत्र श्री मदध्यात्मरामायण के युद्धकाण्ड के त्रयोदश सर्ग में इन्द्रजी के द्वारा रचित है। इस स्त...

 +91 |

By clicking on Login, I accept the Terms & Conditions and Privacy Policy

Recovery Account